गुणों की खान है नीम!

Location

गुणों की खान है नीम!

नीम हमेशा से सुंदरता और सेहत, दोनों के लिए ही एक वरदान की तरह रहा है।

गुणों की खान है नीम!

यूं तो कहावतों में कहा जाता है कि नीम हकीम ख़तरा-ए-जान, मगर यहां हम बात कर रहे हैं वनस्पति की, यानी वह नीम, जो हमारे घर के आस-पास बड़ी आसानी से उपलब्ध हो जाती है। यही नीम इतनी गुणकारी है कि ख़ूबसूरती बढ़ाने या त्वचा संबंधी कई तरह की समस्याओं को दूर करने में भी सहायक है। इतना ही नहीं, अगर आप बातों की किसी समस्या से भी जूझ रहे हैं तो उसका समाधान भी नीम की पत्तियों में छिपा है। 

नीम तो एक ऐसा पेड़ है, जिसकी पत्तियों से लेकर छाल तक और निंबोली से लेकर दातुन व डंठल तक के गुण ऐसे-ऐसे हैं कि आप हैरत में पड़े बिना नहीं रह पाएंगे। सो आज हम आपको यहां नीम के ही अनगिनत में से कुछेक गुणों और उनके प्रयोग के बारे में संक्षेप में बता रहे हैं। 

त्वचा के लिए

Credit: justneem.com

नीम पैक तो आपने उन जगहों पर आसानी से देखे ही होंगे, जहां से आप अपने ब्यूटी प्रॉड्क्ट्स लेती हैं, यानी नीम के गुणों से तो दुनिया अच्छी तरह परिचित है ही, बाज़ार भी इसके लाभों को भुनाने में पीछे नहीं रहता। फिर भी हमारी सलाह तो यही है कि आप नीम को उसके वास्तविक रूप में ही इस्तेमाल करें। अगर आपके चेहरे पर दाग़-धब्बे हैं तो आप नियमित रूप से नीम की ताज़ा पत्तियां पीसकर उसका लेप अपने चेहरे पर लगाएं। अगर आप ऐसी जगह हैं, जहां नीम रोज़ मिलना संभव नहीं है तो फिर आप नीम की पत्तियां सुखाकर और कूटकर रख लें, यानी कि उसका पाउडर बना लें और जब भी समय मिले तो इस पाउडर को हल्दी, कच्चे दूध और गुलाब जल के साथ मिलाकर लेप बना लें और आंखों को बचाते हुए लगाएं। इसे आप सावधानी पूर्वक आंखों के नीचे भी लगा सकती हैं, जो कि आंखों के नीचे होने वाले काले धब्बों में बहुत कारगर है।

अपनी त्वचा को अगर आप नियमित रूप से टोन करना चाहती हैं तो अधिक मात्रा में नीम की ताज़ी पत्तियां लेकर उसे पानी में उबालें। जब पानी उबल-उबल कर आधा रह जाए तो उसे छानकर, ठंडा करके फ्रिज में रख लीजिए। रात को सोने से पहले चेहरे को अच्छी तरह से धोने के बाद उसे पोंछ लें और इस पानी की कुछ बूंदें रुई में लेकर पूरे चेहरे पर अच्छी तरह से लगाकर छोड़ दीजिए। यह प्राकृतिक टोनर का काम करता है। इसके अलावा अगर आप नीम का पैक और टोनर नियमित रूप से प्रयोग करेंगी तो आपके चेहरे के दाग़-धब्बे धीरे-धीरे पूरी तरह से दूर हो जाएंगे।

अगर आपकी त्वचा संवेदनशील है या फिर आपको शरीर पर दाने या फुंसी जैसी कोई समस्या है तो आप नियमित रूप से नीम की ताज़ा नन्ही पत्तियां खाएं। इससे साथ ही आप नीम की पत्तियों को पानी में उबालकर उस रोज़ाना नहाने के बाद आख़िर में पूरे शरीर पर डालकर छोड़ दें। नीम का पानी डाल लेने के बाद दूसरा सादा पानी न डालें। इसके अलावा अगर हो सके तो कुछ समय के लिए डियोडेरेंट या परफ्यूम का इस्तेमाल बंद कर दें। नीम की पत्तियां खाने से आपका रक्त शुद्ध होगा और नीम के उबले पानी को ठंडा करके नहाने से शरीर में पहले से हो चुकी फुंसियां या दाने ठीक होने लगेंगे और उनके निशान भी नहीं पड़ेंगे।

बालों के लिए

Credit: CitySpidey

बाल झड़ना, असमय सफेद होना, दोमुंहे होना, रूसी, यानी डैंड्रफ होना या बालों का न बढ़ना, ये सभी ऐसी समस्याएं हैं, जिनसे आज हर दूसरा व्यक्ति परेशान है। इससे छुटकारा पाने के लिए लोग दुनिया भर के तेल शैंपू, कंडीशनर वग़ैरह इस्तेमाल कर लेते हैं, लेकिन नीम की तरफ़ बहुत ही कम लोगों का ध्यान जाता है। बालों संबंधी जो समस्याएं हमने यहां बताई हैं, उन सभी का एक ही कारगर इलाज है- नीम। इसके साथ-साथ आप नियमित रूप से बालों की तेल मालिश हल्के हाथों से करना न भूलें। यह तेल कुछ देर तक बालों में रहने देने के बाद अपने नियमित शैंपू-कंडीशनर से ही बाल धोने के बाद पहले से पानी में नीम की पत्तियां उबालकर, पानी आधा रह जाने पर ठंडा कर लीजिए और बाल को सादे पानी से धोने के बाद अंत में इस पानी से बाल धोकर छोड़ दीजिए। इसके बाद कोई दूसरा पानी इस्तेमाल नहीं करना है।

इस विधि से नियमित रूप से बाल धोने पर बालों का झड़ना, डैंड्रफ, बीच से टूटना जैसी कई समस्याएं कुछ ही दिन में पूरी तरह से दूर हो जाएंगी। अगर यकीन न हो तो ख़ुद प्रयोग करके देख लीजिए, हैरत में पड़ जाएंगे। साथ ही अगर आपको बालों में जूं की समस्या भी परेशान कर रही है तो नीम का यह प्रयोग उसे भी दूर कर देगा, क्योंकि नीम को मृदु कीटनाशक भी कहते हैं। बालों को संपूर्ण पोषण देने के लिए आप हफ्ते या दस दिन में एक बार नीम का पैक दही में मिलाकर बालों में लगाएं। यह बालों को तेज़ी से बढ़ाने में मदद करेगा और उनका असमय सफेद होना भी रुक जाएगा।

दांतों के लिए

Credit: CitySpidey

किसी भी चेहरे की खूबसूरती में एक मोहक मुस्कान चार चांद लगा देती है, लेकिन यह तभी पूरी मानी जाएगी, जब आपके दांत स्वस्थ हों और मुंह से बदबू न आती हो। नीम यहां भी इतना कारगर है कि कुछ लोग तो दांत साफ करने के लिए नीम की दातुन का ही इस्तेमाल करते आए हैं। अगर आप ऐसा नहीं करना चाहते तो नीम के तेल की कुछ बूंदें लेकर उसे सफेद नमक, हल्की और लौंग के पाउडर के साथ मिलाकर लेप की तरह बना लें और रात को सोने से पहले उंगलियों की सहायता से इसे दांतों पर मलें। कुछ देर तक ऐसा करने के बाद सादे पानी से कुल्ला कर लें। इसके बाद कुछ न खाएं-पिएं। इसका प्रयोग आपको कुछ ही दिन में हैरान करके रख देगा, क्योंकि इससे मुंह से बदबू आना, दांतों में दर्द या पीलापन रहना, दांत में कमज़ोरी आना जैसी समस्याओं से तो आपको छुटकारा मिल ही जाएगा और अगर दांतों में पायरिया हो गया है तो उसका भी यह अचूक इलाज है।

तो देखा आपने, एक नीम कितनी सारी समस्याओं का हकीम है। यहां तो हमने कुछ ही समस्याएं गिनाई हैं, लेकिन नीम के गुण हैं अनेक। नीम इस्तेमाल करना शुरू कीजिए और ख़ुद जान जाइए।